भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे पास है नाटी औरत का चेहरा / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे पास है नाटी औरत का चेहरा
नीली आँखें, अपशकुनी आँखें,
तुम हो कुरूप और विकृत,
लेकिन कोई शख़्स क्या करे
गर चुहल नहीं करे ख़ुद से ?
बच्चा जो तुम धारण करोगी
अपनी बौनी टांगों के बीच
जिएगा नहीं,
क्योंकि मैं नकार दूंगा उसे

देवदूत क्षमा करो उसे और मुझे
जिसे बुझाने के लिए मेरी भूख
करना था किसी भी--
यहाँ तक कि न्यूनतम
कीमत पर प्यार ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना