भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे प्रेम में - 2 / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे प्रेम में
मैं पिघली
और तुमने
एक साँचे में मुझे भरकर
धूप में रख दिया।
सूखने पर बनी ’मैं’
तुम्हारी मनचाही थी...

आज
धूप भरे कई दिनों के बाद
तुम खोजते हो
उस स्त्री को
जिसे कभी तुमने
प्रेम किया था...

बीते कई सालों से
तुम्हारे साँचे में
ढल चुकी
‘मैं’ भी
उसी को खोजती हूँ...