भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे यदि कुछ कहने पर / मक्सीम तांक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारे यदि कुछ कहने पर
तुरन्त न उत्तर दे पाऊँ-
बुरा न मानना, क्षमा कर देना !

कभी-कभी मेरे कंधों पर
आराम कर रहे होते हैं पक्षी
मुझे डर लगता है उन्हें जगाने में ।

कभी-कभी मेरी आँखों के आगे
उठ खड़ी होती हैं मेरे विस्मृत प्रियजनों की छायाएँ
और मैं उनसे बातें कर रहा होता हूँ ।

कभी-कभी मीठे शब्दों की प्यास
जकड़ देती है मेरे होंठ ।
तब कठिन हो जाता है
मुझे तुम्हारा नाम लेना ।

इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता
यदि तुम्हें लटकता दिख रहा हो अलमारी में
मेरे सफ़र का पहरावा ।

मैं अकसर ही अपने दिन, अपनी रातें
बिताता हूँ नारोचान के देवदारों के नीचे
जहाँ छिपे हैं मेरे सब दुख, सब ख़ुशियाँ
और मेरे सब उनींदे विचार ।


रूसी से अनुवाद : वरयाम सिंह