भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम अभी भी यहाँ हो / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फेंक दो अपने डर को
हवा में

शीघ्र ही
हो जाएगा पूरा समय तुम्हारा
शीघ्र ही
ऊपर उठेगा आकाश

घास के नीचे से
नहीं गिरेंगे कहीं भी
सपने तुम्हारे I

अभी तक
सुगन्ध आ रही है लवंग की
गा रही है सारिका
प्यार कर सकती हो तुम अभी
खोल सकती हो भेद शब्दों से
कि तुम अभी यहाँ हो I

बनो जो तुम हो
दो वही जो है तुम्हारे पास II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित