भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम और तुम्हारे कैडर-1 / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोटर साइकिल पर सवार
घुस पड़ते हैं
जत्थे के जत्थे! झुंड के झुंड!
कौन घुस पड़ते हैं?
सुबह-सुबह कौन घुस पड़ते हैं?

--कुछ पता नहीं चलता!
लेकिन उसके बाद,
गाँव-गाँव, घर-घर !

अबोध-मासूम किसान का झरता है ख़ून,
जाग्रत किसान का झरता है ख़ून!

बांग्ला से अनुवाद : सुशील गुप्ता