भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम क्या हो ? / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धधकती दवात में, सुलगती स्याही हूँ,
इन आँखों की कलम से,
जुबान पर मेरा नाम ना लिखो,

मैं झिझकती हूँ, लूटी हूँ,
और सहती हूँ,
फिर भी कहती हूँ,
मुझे आवाम ना लिखो,

मैं फ़ैल जाऊंगी तुम्हारे सफ़ेद जीवन पृष्ठ पर,
मैं रौशनी हूँ सूरज की,
मुझे शाम ना लिखो,

मैं आंधी के साथ उड़कर
कब जला डालूंगी तेरा छप्पर,
राख़ में छिपी हुई चिंगारी हूँ,
मेरा काम तमाम ना लिखो,

बेहयाओ की तरह नोचते हो रात भर,
सुबह जाते हो मंदिर संत बन नहाकर,
तुम राक्षस कहलाने के काबिल भी नहीं,
यूं अपना नाम श्री.....राम ना लिखो !!