भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम तक / अनुपमा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सजल आँखों से जलाया
देहरी पर एक दीप...

मन का आँगन
लिया पहले ही था लीप...

बड़े स्नेह से बुला रहे हैं
ज़िन्दगी ! आओ न समीप...

हम भी तुम तक ही तो आ रहे हैं
चुनते हुए भावों के मोती सीप... !!