भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम नहीं / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम कभी नहीं भगा सकोगे मुझे !
बहार को क्या कोई ठुकराता है !
अपनी उंगली से भी छू नहीं सकोगे तुम मुझे :
सुला देंगे तुम्हें मेरे मादक मधुर गीत !

निंदा नहीं कर सकोगे तुम मेरी
होठों के लिए पानी है मेरा नाम !
तुम छोड़ नहीं सकोगे मुझे कभी :
खुला है द्वार और घर-- खाली !


रचनाकाल : 24 जुलाई 1919

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह