भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तुम पडी हो... / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम पड़ी हो शान्त सम्मुख

स्वप्नदेही दीप्त यमुना

बाँसुरी का गीत जैसे पाँखुरी पर

पौ फटे की चेतना जैसे क्षितिज पर

मैं तुम्हें अवलोकता हूँ ।