भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम हो भी और नहीं भी / मनीषा पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम हो भी और नहीं भी
तुम मैं हो
और मैं तुम
एकाकार ऐसे
जैसे
कुम्‍हार की मिट्टी में ढला हुआ घड़ा
जैसे फूलों में घुले रंग
जैसे शहद में मिठास
जैसे पसीने में नमक
जैसे आंखों में रहते हैं आंसू
और दिल में उदासी
जैसे आत्‍मा के भीतर एक सतानत दिया जलता है
राह दिखाता
तुम वही दिया हो
अंधेरे में टिमटिमाते हुए
दिखा रहे हो आत्‍मा को
रास्‍ता।