भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम / निर्मला देवी / दिनेश कुमार माली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: निर्मला देवी (1907-1987)

जन्मस्थान: बालीकूदा, कटक

कविता संग्रह: दिनान्ते (1953), सीमांते(1962), वर्णराग(1986)


तुम तो हो रंगहीन
मगर रंग धारण करते हो कैसे ?
तुम तो हो गंधहीन
मगर असंख्य सुगंधों में सुवासित होते हो कैसे  ?
तुम तो हो स्पर्शहीन
मगर हर प्राणी में सिहरन उठाते हो कैसे  ?
तुम तो हो रसहीन
मगर पूरी सृष्टि को रसमय बनाते हो कैसे ?
तुम तो हो रूपहीन
मगर अनंत रूप दिखाते हो कैसे ?
तुम तो हो शब्दहीन
मगर विश्व को शब्दमय बनाते हो कैसे ?
दिखते हो तुम एकदम विचित्र
सुनो, कैसे बनाऊँ मैं तुम्हारे चित्र