भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम
किसी होनी की सूरत
साँस को सरगम बनती
ज़िस्म के हर एक मू से
कौंधती
सिहरन जगाती
झील की लहरों प' जैसे
डोलता ताज़ा कँवल
धुंध की गहरी गुफा में
सीन-ए-नाकूस से
उठता धुआँ
या किसी गहरे कुएँ में
झरते पानी की सदा

तुम
किसी वादी का रस्ता
चोटियों को चूमने को
मुज़्तरिब सा

तुम अज़ल से ता अबद
फैली फ़ज़ा

कुछ नहीं हो कर भी
सब कुछ
मुझ को मेरे होने का
अहसास देती
लम्स को आकर देती
कौन