भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तूं आइजै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद
च्यारूंमेर घिर जावै
घनख अंधारो
गमण लागै मारग
उजास ओढ़ र
    तूं आइजै

जद
सुरजी री आकरी किरणां सूं
तपण लागै धरती
बापरण लागै अमूजो
बिरखा बींदणी बण र
          तूं आइजै

जद
बुझण लागै
सांसां रो दीवो
खूटण लागै तेल
नुंवो जीवण लेय र
          तूं आइजै