भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तूफानी दिन / सेरजिओ बदिल्ला / रति सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वांग वी संदेह में है
कौन सी परेशानी उसे लीयान के बारे में सोचने को मजबूर कर रही है
क्या तूफान तांग डाइनेस्टी पर पीछे से चूहे सा गुर्रायेगा?
पाले के नीचे दबे रुपहले गुच्छे सा
बकल की कील नहीं लगती
जब छांगि अनायास विपदा में गायब हो गई
कोई बहाना नहीं बनाया जा सकता
इसलिये वह ऐसे उदास है जैसे कि इमली के पत्ते ऐसे झड़ रहे हैं
जैसे की राजसिंहासन डोल रहा हो
और फिर भी वांग वी जिंदा है
उसका दीमग अटकलों से भन्ना रहा
इन सारे तूफानी दिनों में