भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू भी सो जा मेरी बिटिया / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात हुई सब पेड़ सो गये
चिड़ियाँ पंख समेटे सोई
तू भी सो जा मेरी बिटिया
तेरी दीदी भी अब सोई

आसमान में चंदा निकला
रजत चाँदनी भू पर छाई।
चूम रही है फूल-फूल को
रजनीगंधा भी मुस्काई।

सोने के पलने में सजकर
मंदिर में ठाकुर जी सोये
कल जागेंगे बड़े सबेरे
इसीलिए ये जल्दी सोये

दादी सोई दादा सोये
तू क्यों अब भी जाग रही
सोओ जल्दी जागो जल्दी
यही बड़ों ने बात कही

अब तो सो जा प्यारी बिटिया
बड़े सबेरे उठाना है
आज पाठ जो रहा अधूरा
कल वह पूरा करना है