भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू मेरी बांहों में सो जा / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लता-गोद में फूल सो गया
तू मेरी बांहों में सो जा

तू है मेरा मुन्ना प्यारा
घर भर का है राज-दुलारा

आ! माँ की पाँखों में सो जा
तू मेरी बांहों में सो जा

चन्दा मामा नभ में आये
सौ-सौ सुंदर सपने लाये

तू इनकी चाहों में सो जा
तू मेरी बांहों में सो जा

सो जा, सो जा निंदिया आये
अंचल मेरा तुझे उड़ाये

ममता कि छाहों में सो जा
तू मेरी बांहों में सो जा