भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू यहां के तौर-तरीकों से वाकिफ़ नहीं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू यहां के तौर-तरीक़ों से वाकिफ़ नहीं।
तेरे लिए उनकी यह बज्म मुआफिक नहीं!

खून का नाम सुनते ही पसीना आ गया,
तेरा यहां टिके रहना कुछ मुनासिब नहीं।

अभी से हाथ-पांव फूल रहे, आगे सोच,
यह पहली वारदात है, खुदा हाफ़िज नहीं।

तेरे भीतर अभी जिन्दा है एक आदमी,
तुझको दिखेगी क़दम-क़दम पर दोजख़ यहीं।

सिर्फ दरिंदों की खातिर रखे हैं ये खिताब,
आदमी का देख यहां कोई आशिक़ नहीं!