भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तू सच सच आख वे जोगी / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।

न करिये माण वतनाँ दा,
असीं हाँ लाल परदेसी,
तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।

अधी राती दुपट्टा रंगया,
न माही आया न किली टंगया,
तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।

अधी राती पकन केले,
विच्छ्डयाँ नूँ रब आप सेले,
तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।

अधी राती पकन आडू,
वगण नदियाँ तरण तारु,
तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।

अधी राती चमकण तारे,
जुदाई वाले तीर सानुँ किस मारे,
न तुसाँ मारे न असाँ मारे,
मारण वाला प्रभु आप जाणे,

तू सच सच आख वे जोगी,
सजन मिलसी के न मिलसी,
मिलन होसी के न होसी।