भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा कितना एहतरा है साकी / अबू आरिफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरा कितना एहतरा है साकी
तेरे बिन पीना हराम है साकी

न चल सुए-मयखाना अभी
अभी तो वक्त-ए-शाम है साकी

देख इक नज़र इधर को भी
किससे हमकलाम है साकी

तू ख़फा होये तो ख़फा हो जा
दिल में तेरा ही मुकाम है साकी

होश आये तो बात कुछ होवे
अभी तेरा ही नाम है साकी

चाहे आरिफ़ हो या कि ज़ाहिद हो
हर इक लब पे तेरा नाम है साकी