भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी / अर्जुन देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरा मुखु सुहावा जीउ सहज धुनि बाणी।।
चिरु होआ देखे सारिंग पाणी।।
धंनु सु देसु जहा तूं वसिआ मेरे सजण मीत मुरारे जीउ।।
हउ घोली हउ घोल घुमाई गुरु सजण मीत मुरारे जीउ।।