भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा यह अहंकार / सरदार सोभा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
तेरा यह अहंकार
तेरा यह अहं
मिलने न दे
तुझे तेरा प्रीतम

नाच नचाए
द्वार-द्वार पर
भीख मँगाए
जाल बिछाए
और उसी में
ख़ुद फँस जाए

साधु बन गए
साईं बन गए
प्रेमी बन गए ख़ुशी-ख़ुशी
अपितु बन न पाए यार

ढूँढ लिए / हीरे- मोती
जड़ी-बूटियाँ पाईं अचूक
और ममीरे
अपितु ढूँढ न पाए यार
मिलने न दे
तुझको तेरा प्रीतम
तेरा यह अहंकार.