भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरी पार्टी करै याद या सुबह और शाम / अमर सिंह छाछिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरी पार्टी करे याद या सुबह और शाम
मान्यवर साहब कांशीराम मैं हाथ जोड़ करूं प्रणाम।...टेक

सभी रास्ते बन्द होगे बिन रोजगार ना काम।
दलित समाज के बारे म्हं तनै लिया इन का नाम।
जड़ै रेली हो तेरी उड़ै करदा पहिया जाम।
सरकार तेरी ए आवैगी सबका सै इसे म्हं नाम।
जो टक्कर म्हं आवै तेरे वो हट कै ले ना नाम...

जैसे अंग्रेज गये भारत तै न्यूं ए कांग्रेस जावैगी।
सबकै खुशी होई इतणी या त्यौहार सा मनावैगी।
जिसके मन म्हं बसगी वा उरै ऐ आवैगी।
मिली आंख तै आंख मोहर हाथी पै लावैगी।
या ब.स.पा. ए थामनै बसावैगी करो इसको सलाम...

उत्तर-प्रदेश बहन मायावती नै फुल बहुमत दिखाया सै।
मुख्यमंत्री लखनऊ म्हं आपणा हुकम चलाया सै।
जिसनै करा विरोध उसे का टिकट कटाया से।
गरीबां की करी सुणाई गुंडा का रमान्ड कराया सै।
अत्याचार जुल्म का करणिया वो बद तै हो बदनाम...

खुला दरबार इन गरीबां का हंस कै नै बतलावै सै।
बेरोजगारों को देवै नौकरी विकेन्सी तैयार करावै सै।
अमरसिंह छाछिया बड़सी आला भजन इसे के गावै सै।
तहसील बवानी जिला भिवानी हरियाणा प्रान्त बतावै सै।
जनता कह टेप भरा दे हो तेरा भी नाम...।