भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरी याद ! / शार्दुला नोगजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उफ़! तेरी याद की मरमरी उँगलियाँ
आ के काँधे पे लम्हें पिरोती रहें
जैसे सूने पहाड़ों पे गाये कोई
और नदियाँ चरण आ भिगोती रहें !
 
पगतली से उठे, पीठ की राह ले
एक सिहरन सी है याद अब बन गई
चाँदनी की किरण दौड़ आकाश में
सब सितारों को ले शाल एक बुन गई !
 
ताक पे जा रखा था उठा के उसे
तेरी ग़ज़लों को सीढ़ी बनाके हँसी
गीतों का ले सहारा दबे पाँव वो
उतरी है मुझसे नज़रें चुरा के अभी !
 
बन के छोटी सी बच्ची मचलने लगी
गोद में जा छुपी, हाथ है चूमती
चाहे डाटूँ उसे या दुलारूँ उसे
आगे-पीछे पकड़ पल्लू वो घूमती !
 
एक गमले में जा याद को रख दिया
घर गुलाबों की खुशबू से भर सा गया
जाने कब मैं बनी मीरा, तू श्याम बन
मेरे जीवन में छन्न-छन्न उतरता गया !