तेरी सूरत / फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

तेरी सूरत जो दिलनशीं की है
आशना शक्ल हर हसीं की है

हुस्न से दिल लगा के हस्ती की
हर घड़ी हमने आतशीं की है

सुबहे-गुल हो की शामे-मैख़ाना
मदह उस रू-ए-नाज़नीं की है

शैख़ से बे-हिरास मिलते हैं
हमने तौबा अभी नहीं की है

ज़िक्रे-दोज़ख़, बयाने-हूरो-कुसूर
बात गोया यहीं कहीं की है

अश्क़ तो कुछ भी रंग ला न सके
ख़ूं से तर आज आस्तीं की है

कैसे मानें हरम के सहल-पसन्द
रस्म जो आशिक़ों के दीं की है

फ़ैज़ औजे-ख़याल से हमने
आसमां सिन्ध की ज़मीं की है

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)