भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरी ही कृपा ते करत संहार मातु / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगदम्बा स्तुति

तेरी ही कृपा ते करत संहार मातु,
तेरी ही दया ने अज-रचत जहान है।
तेरी ही कृपा ते विषणु पालत सकल जग,
तेरी ही महर नाथ गावत महान है॥
तेरी अनुकम्पा ते दसानन बिनासौ राम,
तेरे ही अनुग्रह रही भारत की शान है।
तेरे जोर तेरे शोर मेरी ओर मेरे शोर,
विजया भवानी जग जानी जै निशान है॥