भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरे छूने से सहरा हो गया गुलज़ार चुटकी में / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
तेरे छूने से सहरा हो गया गुलज़ार चुटकी में
ख़ुशी से झूम उट्ठा ये दिले-बीमार चुटकी में

भरोसा क्या करें तुझ पर तेरी फ़ितरत कुछ ऐसी है
कभी इनकार चुटकी में कभी इक़रार चुटकी में

मुसीबत में मदद माँगी जो अपनों से तो सब के सब
रफ़ू-चक्कर हुए पकड़ी ग़ज़ब रफ़्तार चुटकी में

जो बदक़िस्मत थे उनकी कश्तियाँ साहिल पे डूबी थीं
जो किस्मत के धनी थे हो गये वो पार चुटकी में

है सिक्कों की खनक में बात कुछ ऐसी कि इसने तो
किया रिश्तों को कैसे देखिये बाज़ार चुटकी में

हमारा ज़िक्र जब छेड़ा किसी ने उसकी महफ़िल में
हुए हैं सुर्ख़ तब उसके लबो-रुख़सार चुटकी में

मिले गैरों से हँस-हँस कर तू मेरा जी जलाने को
मज़ा इस बात का लेते हैं मेरे यार चुटकी में

जुआख़ाना है इक बाज़ार सट्टेबाज़ है दुनिया
किसी की जीत चुटकी में किसी की हार चुटकी में

मेरे मौला , मेरे साईं, मेरे दाता मेरी सुन ले
ग़रीबों दर्द-मंदों का तू कर उद्वार चुटकी में

‘नसीम’ उनका था नाम उस्ताद मिर्ज़ा दाग़ थे उनके
उन्होंने ही कहे चुटकी पे थे अशआर चुटकी में

सियासी लोग हैं इनकी ‘ख़याल’ अपनी सियासत है
कभी इनकार चुटकी में कभी इक़रार चुटकी में