भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तैयारियाँ / एरिष फ़्रीड

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले पेशकश
दुविधा की
फिर कोशिशें
वज़ह ढूंढ़ने की
कि दुविधाएँ दूर हों
फिर पहचानना
कि ये वज़हें
अब काफ़ी नहीं हैं

फिर लगातार नई दुविधाएँ
फिर इन सबके बावजूद
बिल्कुल निराश न होने की कोशिश
फिर पूछना कि आख़िर क्यों नहीं
फिर बिलकुल दुविधाओं में डूब जाना
और इनके बाद
अगर मुमकिन रह जाए
लिखना

मूल जर्मन भाषा से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य