भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तैयारी / विजय गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बच्चे किलक रहे हैं लगातार

दिन दोपहरी का सूरज
चढ़ रहा है आकाश में
बूढ़ी स्त्रियाँ
बहू और बेटियों के बच्चों की
मालिश कर रही है,

तेल सने खुरदरे हाथों से
नवजात शिशुओं के
मुलायम-मुलायम बदन रगड़ रही है,

रगड़ रही हैं
बच्चों के चेहरे
छाती
हाथ
जांघ
और सुप्त पड़े अंग

बच्चे ओर जोर से चीख रहे हैं।