भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोला राज मकुट पहिराबो / बुधराम यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोला राज मकुट पहिराबो ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा
तोला महरानी कहवाबो ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा
तोर आखर में अलख जगाथे भिलई आनी बानी
देस बिदेस में तोला पियाथे घाट-घाट के पानी
तोर सेवा बर कई झन ऐसन धरे हवंय बनबासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

रयपुर दुरुग ले दिल्ली तक झंडा तोर लहराथे
साँझ बिहनिया बिलसपुरिहा डंका तोर बजाथे
आज नहीं तो कल भले फेर मन के मिटे निरासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

रायगढ़ सारंगढ़ सरगुजा जसपुर के जमींदारी
कोरबा कोरिया चांपा जांजगीर तोर जबर चिनहारी
कबीरधाम के सत में अरझे अढाई करोड़ के आसा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

अम्बिकापुर बैकुंठ के अम्बर अड़बड़ घहराथे
हमरे मनखे बैरी बन हमरे घर दवां लगाथे
अंगरी पकडत पहुंचा पकडीन बेंदरा करिन बिनासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

नांदगांव के नाव बुडे झन आवा मंतर साधी
मानपुर मोहला मा लाये परही जोरहा आंधी
बैलाडीला के पक्का लोहा जइसन बिस्वासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

धनवंता धमतरी बन्धाइस महानदी गंगरेल
रायपुर महासमुंद हबरथे पानी रेलमपेल
बूंद-बूंद मा जेकर समाये गरीब दुबर के स्वांसा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

कांकेर बस्तर दंतेवाडा पसरे सुघर हरियारी
भटके भुलाए ला रद्दा देखाबों सुमता मा संगवारी
उंकर मन आए भरम के करबोन हम निकासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

रतनपुर के महमाया अउ डोंगरगढ़ बमलाई
दंतेवाड़ा के बनदेवी संबलपुर समलाई
शिवरीनारायण पीथमपुर पलटे किस्मत के पासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

अरपा हसदेव पैरी खारुन इन्द्रावती के धारा
शिवनाथ के तीर में निसदिन गूंजे तोर जयकारा
अर्ध कुम्भ राजिम मा आके देवतन भरे हुलासा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….

तैं गुरतुर तोर आखर ले जानव मधुरस चुचवाथे
बोलईया छत्तीरसगढिया के सिधावापन बड़ भाथे
असली हीरा देवभोग के नोहय पीतल कांसा
ओ मोर छत्तीसगढ़ के भाषा….