भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तोसों लाग्यो नेह रे प्यारे, नागर नंद कुमार / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तोसों लाग्यो नेह रे प्यारे, नागर नंद कुमार।

मुरली तेरी मन हर्यो, बिसर्यो घर-व्यौहार॥

जब तें सवननि धुनि परि, घर आँगण न सुहाइ।

पारधि ज्यूँ चूकै नहीं, मृगी बेधी दइ आइ॥

पानी पीर न जानई ज्यों मीन तड़फि मरि जाइ।

रसिक मधुप के मरम को नहिं समुझत कमल सुभाइ॥

दीपक को जो दया नहिं, उड़ि-उड़ि मरत पतंग।

'मीरा' प्रभु गिरिधर मिले, जैसे पाणी मिलि गयो रंग॥