भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

त्रिवेणी न. 3-4 / गुलज़ार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

3.

सब पे आती है सब की बारी से
मौत मुंसिफ़ है कम-ओ-बेश नहीं

ज़िंदगी सब पे क्यों नहीं आती ?


4.

कौन खायेगा ? किसका हिस्सा है
दाने-दाने पे नाम लिख्खा है
 
सेठ सूद चंद, मूल चंद जेठा