भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थांरै खौळै में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बींटल्या रै मूण्डो लगावतां ई
लखायो म्हनै
स्सो सुख अठै ई है

अमूजो
आंधी
अर लू रा थपेड़ा
का ओळां-बिरखा री मार
    कीं नीं कर सकै म्हारो
थांरै खोळै में म्हनै डर कांईं?

म्हैं
चूंघूं-धापूं
चूंघै-धापै जगत

थांरै बोबां में
क्षीर सागर है मा !