भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थारी सांसां काची झाग, संभाळ’र राख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारी सांसां काची झाग, संभाळ’र राख
औ है थारो धन अर भाग, संभाळ’र राख

दूजा नईं बरजै तो कांई, तूं तो बरज
थारो है थारो औ बाग, संभाळ’र राख

ईं रोसणी री चमक में गमग्या भला-भला
सोगरा’र फोफळिया साग, संभाळ’र राख

भूल्यां किंयां सरै बदळो तो लेणो पड़सी
छाती माथै लाग्यो दाग, संभाळ’र राख

बुझूं-बुझूं है तो कांई, इंयां ना फेंक तूं
कदै काम आसी आ आग, संभाळ’र राख