भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

थारै ताण / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक रुत हुवै
सोरम भरै मन में

मन में तूं हुवै
तो पछै तूं ई है कांई
आ रुत

मुळकै फूल
पाकै पळ
बाजै पत्ता
आळस मरोड़ै बेलां
लखावै
चौफेर एक संगीत
तूं हुवै जणा मन में

थारै बिना
ईं होणै रो अरथ कांईं
तूं ई बता

लै जाण
है थारै ताण
रुत रा रंग रूड़ा !