भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

थे ई तो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हां ऽऽ
थे ई तो हो
माटी रै कण-कण में
सोरम बण समायोड़ा
थारै ई ताण है
होठां में हरफ
पगां में गति
नदी में वेग
पहाड़ में थिरता
थे ई पूगावो
ठाली बूली ठिठकारियोड़ी ठंडी रातां में
      काळजियै निवास
थांरो नांव लेवतां ई
हो जावै
आंधी-बिरखा-लू रा जापता

थारै घर सूं मिलै
पखेरू नै पांख
मिनख नै आंख

माटी रा मालक
थां सूं मोटो कुण ?