भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

थोड़े से सफर में भी / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थोड़े से सफर में भी हम बहुत कुछ देखते हैं
देखते हैं कि हमारे सफर जितनी तो कई कर्मचारियों की
रोज की आवा-जाई है
बूढ़े और बच्चे
बेचते हैं बसों-गाड़ियों में चीजें
हम देखते हैं कि बड़े-बड़े और अशक्त अपंग भी
करते हैं सफर खड़े-खड़े
इसी तरह दिखाई देते है हमें
जगह-जगह मेहनत मशक्कत करते लोग
जिन्हें देखकर भीतर जगता है आत्मविश्वास
हम भूलने लगते हैं अपनी कठिनाईयाँ
भले ही वे जीवन की हों या यात्रा की