भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दक्षिण अफ़्रीका के लिए / अमेलिया हाउस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रसव के समय से आगे बढ़ी हुई
औरत सी
               ओ मेरी जन्मभूमि
धीरे-धीरे चलती हो तुम
बोझ से भारी हैं तुम्हारे पाँव
धीरे-धीरे चलती हो तुम
और हम
नहीं कर पाते प्रतीक्षा
प्राकृतिक प्रसव की
हमें
जनवाना ही होगा तुम्हें
ज़बरन।

अंग्रेज़ी से अनुवाद : हेमन्त जोशी