भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द औरों का दिल में गर रखिए / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द औरों का दिल में गर रखिए
बेग़रज़ हो के उम्र-भर रखिए

हो ही जायेंगी मुश्किलें आसान
अक़्ल-सा एक राहबर रखिए

पाँव ठहरें ख़याल चलते रहें
एक ऐसा भी तो सफ़र रखिए

सब हवाई क़िले दिखाते हैं
कुछ किसी की न आस पर रखिए

इसके दम से है आबरू का वुजूद
अपने किरदार पर नज़र रखिए

हो इशारा कि बह सके न हवा
आँख में इतना तो असर रखिए

दोस्ती में है शर्त ये 'दरवेश'
ज़िक्र मैं-तू का ताक़ पर रखिए