भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द पहले सा अब नहीं होता / बलजीत सिंह मुन्तज़िर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द पहले सा अब नहीं होता ।
मनमुअफिक तो सब नहीं होता ।

तुझसे मिलना हयात में था लिखा,
यूँ ही कुछ बेसबब नहीं होता ।

गर न होती ये आबजू बाहम,
इतना में तश्नालब नहीं होता ।

चन्द ज़रदारों का हुआ वो तो,
हम गरीबों का रब नहीं होता ।

उनके जलवे थे जानाफ्रीन इतने,
क्यूँ कोई जान्बलब नहीं होता ।

मिलती तुझसे न आदते मैकशी,
क़िस्सा यह शामो शब नहीं होता ।

तुम न करते अता इसे खुशियाँ,
तो ये शहरे तरब नहीं होता ।