भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द बढ़कर फुग़ां न हो जाए / दावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द बढ़कर फुगाँ न हो जाए।

ज़िन्दगी इम्तहाँ न हो जाए।।

अब क़फ़स पर हैं बिजलियाँ बेताब।

ये मेरा आशियाँ न हो जाए।।


आह बनकर जो आई है लब तक।

वो दुआ रायगाँ न हो जाए।।

अपने सजदों को रोक लो तनवीर।

आस्ताँ आसमाँ न हो जाए।।