भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दलिदर / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है लक्ष्मी छेकै आकि पूजा काली,
सब्भैं घरोॅ में घूसै छै दलिदर खाली?

घरोॅ रोॅ धोॅन दीया आरो पड़ाका में जरै छै,
कीड़ा-मकोड़ा जरी-जरी केॅ सब्भे मरै छै
है कोॅन छेकै दुःख भरलोॅ खुशहाली
है लक्ष्मी छेकै आकि पूजा काली।

अन्हारोॅ में इँजोर सब्भैं करै छै,
आपनोॅ विचारोॅ केॅ दिलोॅ में कोय नँ तौलै छै
है कि छेकै सब्भै रोॅ दूरंगोॅ दीवाली।
है लक्ष्मी छेकै आकि पूजा काली।

घोॅर जराय केॅ सब्भैं आग तापै छै,
मानो कि ‘‘संधि’’ पीछूँ बाप-बाप जपै छै
फूल मुरझाय गेलोॅ लागलोॅ डाली।
है लक्ष्मी छेकै आकि पूजा काली।