भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दस्त-ऐ-ज़मील-ऐ-तरबखेज मेरी माँ के थे / धीरेन्द्र सिंह काफ़िर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दस्त-ऐ-ज़मील-ऐ-तरबखेज[1] मेरी माँ के थे
उन हरेक पल वो साथ जो मेरे इम्तहाँ के थे

हरेक सिम्त[2] समेट दी कि हो जाऊँ कामराँ[3]
वगरना कल तक सब कहाँ के हम कहाँ के थे

अहल-ऐ-जहाँ[4]ओ ये पेंच-ओ-ख़म[5] का दम
मुझे गिराने वाले सब मेरे ही कारवाँ[6] के थे

जब तक वो न थी करीब, तो सब थे रकीब
हम तब तक उम्मीदवार खुर-ऐ-गलताँ[7] के थे

आज तो दे रखीं हैं सौ दुकानें किराए पर
कल तक ख़रीदार खुद हम अपनी दुकाँ के थे

शब्दार्थ
  1. खुशियाँ देने वाले कोमल हाथ
  2. दिशा
  3. सफल
  4. दुनियावाले
  5. दाँव-पेंच
  6. जुलूस
  7. डूबता सूरज