भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दहशत/ सजीव सारथी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी राहों पर चलती है वो,
दहशत दिल में रखती है वो,
विश्वास के मंदिर ढह गए,
भरोसे उठ गए सारे,
अपने साये से भी अब तो डरती है वो,
खिल कर हँसती नहीं,
खुल कर मिलती नहीं,
चुपचाप खामोश फकत अब रहती है वो,
हर तकती निगाहों में उसे,
एक भूख सी नज़र आती है,
सर से पाँव तक बदन ढांपे रखती है वो,

वो जो उड़ना चाहती थी खुले आसमान में,
सिमटी सहमी सी वो रहती है अब,
जिसे नाज़ था अपने शहर, अपने वजूद पर,
खुद से शर्मसार वो लगती है अब

कैसे यकीं दिलाओगे उसे कि
महफूज़ है वो,
ख़बरों की काली सुर्खियाँ,
रोज पढ़ती है वो.