भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दाँत / नीलेश रघुवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरने वाले हैं सारे दूधिया दाँत एक-एक कर
टूटकर ये दाँत जाएंगे कहाँ?

छत पर जाके फेंकूँ या गाड़ दूँ ज़मीन में

छत से फेंकूंगा चुराएगा आसमान
बनाएगा तारे
बनकर तारे चिढ़ाएंगे दूर से
डालूँ चूहे के बिल में
आएँगे लौटकर सुन्दर और चमकीले
चिढाएँगे बच्चे ’चूहे के दाँत’ कहकर
खपरैल पर गए तो आएँगे कवेलू की तरह
या उड़ाकर ले जाएगी चिड़िया

गाड़ूँगा ज़मीन में बन जाएँगे पेड़
खाएगा मिट्ठू मुझ से पहले फल रसीले
मुट्ठी में दबाए दाँत दौड़ता है बच्चा
पीछे-पीछे दौड़ती है माँ।