भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाक्षिणात्य स्त्री-1 / राजशेखर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊपर से ही
घुँघराली लटों को मोड़ कर
बना लेती हैं वे जूड़ा

उससे थोड़ी
छोटी लटें छितराकर
बिखर जाती हैं ललाट पर

बग़ल में आँचल को कसकर बाँधकर
कमर की गाँठ
कसकर बंद कर लेती हैं

कुन्तल की
कामिनियों का
यह वेष
चिरविजयी करे।

मूल संस्कृत से अनुवाद : राधावल्लभ त्रिपाठी