भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दाग / सजीव सारथी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चन्द्रमा के चमक की हँसी उड़ाता,
वह बदनुमा ‘दाग’-

सतरंगे शहर की,
एक फुटपाथ पर,
वहाँ,
कूड़े के पास,
वह लाश पड़ी है,

नही,
लाश नही,
अभी तो नसों में ज़हर बाकी है,
अभी तो साँसों में,
राख़ काफ़ी है,

मगर,
भूख के बिछौने पर लेटे,
अभाव की चादर ओढ़े,
उस जर्ज़र शरीर के,
चेहरे पर लगी,
उन दो जगी आंखों को ,
इंतज़ार है तो बस,

एक अनंत सपने का,
या फिर मौत की नींद का।