भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दादा केरा अँगना जामुन के गछिया / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दादा केरा अँगना जामुन के गछिया।
सेइ तर[1] दुलरइतिन बेटी ठाढ़, से दादा न बोलइ॥1॥
रहियो[2] न बोलइ, बटियो[3] न बोलइ।
पनिया भरइते[4] पनिहारिन, से दादा न बोलइ॥2॥
अनमा[5] से देल दादा, धनमा[6] से दिहले।
मोतिया दिहले अनमोल जी॥3॥
एक नहीं दिहले दादा, सिर के कँगहिया[7]
सासु ननद ओलहन[8] देत, से दादा न बोलइ॥4॥

शब्दार्थ
  1. उसी के नीचे
  2. राहगीर
  3. रास्ता
  4. भरती हुई
  5. अन्न
  6. धन, वैभव
  7. कंघी
  8. उलाहना