भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दादा हमारे नयना जोगी हैं री मइया / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दादा हमारे नयना जोगी[1] हैं री मइया।
दादी हमारी मनमोहिनी री मइया।
बलदी[2] लदाये[3] जोग लाद लायें जी॥1॥
नाना हमारे नयना जोगी हैं री मइया।
नानी हमारी मन मोहिनी री मइया।
छकड़े[4] लदाये जोग लाईं री मइया॥2॥
अब्बा हमारे नयना जोगी हैं री मइया।
अम्माँ हमारी मन मोहिनी री मइया।
छकड़े लदाये जोग लाई री मइया॥3॥
भइया हमारे नयना जोगी हैं री मइया।
भाभी हमारी मन मोहिनी री मइया।
गाड़ी लदाये जोग लाई री मइया॥4॥

शब्दार्थ
  1. आँखों से ही देखकर जोग-टोना करने वाले, जादू-टोना जानने वाले
  2. बैल पर
  3. लदवाकर
  4. सरगड़, बैलगाड़ी