भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दायित्व / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारा काम था दीया जलाना
तुमने जलाया
दीये का काम था रोशनी देना
उसने दी
रोशनी का काम थाअँधेरा मिटाना
उसने मिटाया
तेल चुक गया
दीया बुझ गया
रोशनी ना रही
अँधेरा फिर छा गया
कैसे कहते हो
तुम्हारा कोई दोष नहीं