भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दासी / रातें न रहीं वो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

रातें न रहीं वो न रहे दिन वो हमारे।
अब तुम ही बता दो कि जियें किसके सहारे।।

आ जाओ तड़पता है जिया दर्द के मारे।
दम घुट के मर जाते हैं अरमान बिचारे।। अब तुम ही...

कोई तो उन्हें जाके ये पैगाम मेरा दे।
इक रोता हुआ दिल तुम्हें दिन रात पुकारे।। अब तुम ही...